# यूँ   ही,  नतमस्तक     हो      जाऊंगा

 

कैसे   करुँ   अर्पित   पुष्प     तुम्हें ,

जिनसे    उपवन   महक   रहा  हो

 

कैसे    नहलाओ    दूधों    से   तुम्हें,

जहाँ  बचपन  घूटघूट  को तरस रहा हो।

 

कैसे   बिठलाऊ   ऊंचे  भवनो  में  तुम्हें ,

जहाँ  बरसात  में  छपर  टपक   रहा हो।

 

कैसे    लगाऊ    छप्पन   भोग   तुम्हे,

जहाँ   झूठन  पर जीवन गुजर रहा  हो।

 

 

ये    जग    भी    तेरा    में    भी   तेरा,

क्या         अर्पित     कर        पाउगा

देखे          तेरे          परछाये        को

यूँ   ही,  नतमस्तक     हो      जाऊंगा

 

                                    सुधीर कुमार  “काजी”

                                       

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *