यु  ना उछालो लफ्जो को

यु  ना उछालो लफ्जो को, नस्तर सी चुभन रखते है। बे -जुबा  भी , आहों  में बहुत  असर    रखते  है । माना  की  बहुत  ऊचे  हैं  मचान  आज  तुम्हारे । हारे  नहीं  वो कभी, जो दिल  में  सबर रखते  है ।                               सुधीर कुमार   “ काजी ”