सुना है कि , रहमत से मुलाकात हो जाती है

 

सांसो  को , आज भी  महका  जाती है I

हवा, जो तेरे शहर से गुजर  के आती है II

 

अपने शहर में खोजता हूँ , अपना पता I

जाती एक बस तेरे शहर को, फिर तेरी याद दिला जाती है II

 

भोर  से  पहले  तेरा,   छत  पर आ जाना I

मेरी साइकिल की घन्टी , आज भी तुम्हे बुलाती है II

 

पलाश के फूलों , पर चढाती रंगत के मौसम मेँ I

धूप ,  आज  भी  तुम्हारी  तरह  मुस्करती है II

 

मन्नतो के धागे  बांधता हूँ, हर मज़ार हर दरबार  पर I

सुना  है  कि ,  रहमत से  मुलाकात हो  जाती  है II

 

                                                                      सुधीर कुमार

                                                                      14-03-2019

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *