कल कल बहती अमृत  धारा

कल कल बहती अमृत  धारा ,

धरा     धन्य    हो     जाती है I

है गंगे माँ ,जब तेरे  पावन चरणों को

मेरी      माटी    छू   जाती    है I

 

सजते  है,   घट  तेरे  पग -पग  पर

तीरथ  मेले , तेरे पावन  तट  पर

गंगे  मईया ,  तेरे अचल की  छैया

हर      दोष     मिटा    जाती    है I

 

 

संत  तरे  साधु तरे,  तरे   समस्त संसार

तुझसे  है जीवन गंगे माँ , है तेरा उपकार

आ  कर   तेरी    शरण  मै ,  गंगे  माइया

हम  दुष्टो  को  भी  मुक्ती  मिल जाती है I

 

कल –  कल   -बहती   अमृत    धारा ,

धरा    धन्य     हो      जाती    है I

 

                                सुधीर कुमार

                                पटियाली  (कासगंज )- 25 , Nov-2018

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *