ये जरूरी तो नहीं

एक  हसरत  हो  तुम  मेरी,     जागीर तो नहीं I

बन  जाओ  मेरी  तकदीर,  ये जरुरी तो नहीं  ।।

 

दो  कदम  का  साथ ही काफी है,  राह  दिखाने  के लिये I

बन  जाओ  मेरे   हमराह ,     ये  जरुरी  तो  नहीं  ।।

 

ख्वाहिशे  लाख  बसाई  है ,  मैने  दिल में जरूर I

हो जाये सभी पूरी ,   ये   जरूरी  तो  नहीं ।।

           

माना   कि   बेवजह  नहीं,  तुम  इस  जमी  पे I

जीने की वजह तुम ही  हो, ये   जरूरी तो  नहीं ।।

 

मन्नतो  से मिला है  ये  जन्नती  जहानसुधीर” I

यू   ही   जाया   किया  जाये , ये   जरूरी तो नहीं ।।

                                                                            सुधीर कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *